काँच के पार
कुछ भी तो नहीं पता चलता

कि तपन से जल रहे हैं लोग

कि ठण्ड से काँप रहे हैं;

कि हवा में कितना जहर घुला है,

और कितनी साँसे धुएँ की कालिख से 

स्याह हो रहीं हैं

काँच के पार तो आँसू भी कड़कती धूप से 

चमक बिखेरते हैं

लोग मायूस बैठे हैं, कि बिलबिला रहे हैं भूख से

चेहरे पे उत्तेजना जोश की है

या अनगिनत परेशानियों से उपजे तनाव की

कुछ भी तो नहीं पता चलता कांच के पार।

सड़क किनारे एक ढाबे पर

जो आदमी कल लुढ़क पड़ा था 

लोहे की उस ठंडी बेंच पर,

वो अभी ज़िन्दा है, कि मर गया

ये बड़े बड़े जुगनू सिर्फ सड़क किनारे ही जलते हैं

कि दूर अँधेरे से ढके उन गाँवों में भी

जो भूतों के खँडहर से मालूम पड़ते हैं

और जहाँ पगडण्डीयाँ खो सी जाती हैं, 

घरों के घने अंधेरों के भीतर न जाने कहाँ

कुछ भी तो नहीं पता चलता काँच के पार

ढाबे किनारे केतली धोते उस बच्चे के गाल

मासूमियत से लाल हैं या उसके मालिक की हैवानियत से

जिसके थप्पड़ों से तंग आकर, 

उसने अपना बचपन मार डाला

और पथरीली निगाहों से घिसता रहा 

ऐल्युमिनिअम की वो केतली

जो उसके अँधेरे भविष्य की तरह न जाने कब उजली होगी

कुछ भी तो नहीं पता चलता कांच के पार

फूटपाथ पे जलते वो चूल्हे कितने निवाले बना लेते होंगे रोज़

जो बुझ जाते हैं गाड़ियों के धुएँ की घुटन से

और मिचमिचाती हुई कुछ तंग आँखें अपनी फूँक से जिन्हें ज़िन्दा करने की कोशिश में लगी होती हैं

वो चूल्हे इतना खून पीकर कितनों का पेट भरते होंगे

कुछ भी तो नहीं पता चलता कांच के पार

जब डामर से पटी जमीन पर, 

रबर के टायरों पर लुढ़कते टिन के डिब्बे के भीतर

एसी की ठण्ड भरी हवा से बोझिल दो आँखें

जाने अनजाने झाँक लेती हैं,

काँच के पार.......

                                                                                                  आशिष मिश्र

                                                                                  

 

 

Popular posts
<no title>बीच-बचाव करने लगे।झगड़े में बहादुर अली,उसकी पत्नी जो वर्तमान प्रधान है और उसका एक लड़का घायल हो गये।जिनका मेडिकल उपचार कराया गया व झगड़े करने वाले चार लोगों की गिरफ्तारी हुई है सभी के विरुद्ध लॉक डाउन के उल्लंघन का मुकदमा दर्ज किया गया है।अभियुक्तों की पहचान फिरोज अली पुत्र आरिफ अली,शेर अली पुत्र आरिफ अली,अमन अली पुत्र फिरोज अली और आतिफ अली पुत्र फिरोज अली निवासी गढ़ ग्राम छोलस थाना जारचा के रुप में हुयी।जिनके खिलाफ पुलिस ने धारा 188 /270/ 271 IPC के तहत मुकदमा दर्ज किया है।
23 मार्च को कई राज्यों और शहरों में लॉकडाउन घोषित किया गया था। बावजूद इसके अधिकतर जगहों पर लोग बेपरवाह दिखे। वाहनों की आवाजाही सामान्य दिखी और लोग बेरोकटोक आते-जाते रहे। लॉकडाउन का कहीं कोई असर नहीं दिखा। इसे देखते हुए पीएम मोदी को भी अपील करनी पड़ी की कई लोग इसे गंभीरता से नहीं ले रहे हैं और राज्य सरकारों को कानून का सख्ती से पालन करवाना चाहिए।
लॉक डाउन का उल्लंघन करने वाले चार अभियुक्तों को थाना जारचा पुलिस ने किया गिरफ्तार
अपराध पर निरंतर अंकुश लगाने वाली पुलिस को उस वक्त एक नई सफलता मिली जब जारचा पुलिस ने लॉक डाउन का उल्लंघन करने वाले चार अभियुक्तों को गिरफ्तार किया।आपको बता दे कि पुलिस आयुक्त आलोक सिंह के निर्देश पर लॉक डाउन का उल्लंघन करने वालों लोगों के खिलाफ सख्त कारवाई हो रही है।इसी क्रम में थाना जारचा पुलिस ने दिनांक 10 अप्रैल 2020 को ग्राम छोलस प्रधान पति बहादुर अली द्वारा पुलिस को सूचना दी कि गांव में कुछ बच्चे क्रिकेट खेल रहे है।पुलिस मौके पर पहुंची तो क्रिकेट खेल रहे बच्चे पुलिस को देख कर भाग गए।बहादुर अली के दो भाई के लड़के भी क्रिकेट खेल रहे थे।पुलिस से शिकायत करने से नाराज प्रधान पति बहादुर अली के दोनों भाई उससे झगड़ा करने लगे।झगड़ा करते हुए ये लोग घर के बाहर आ गए।उनको झगड़ा करते देख गांव के 20-25 लोग इक्कठे हो कर तमाशा देखने लगे।उसके बाद झगड़े को शांत करने के लिए
सुरक्षित रहने हेतु लॉयन्स क्लब प्रतापगढ़ अवध ने मीडियाकर्मियों को बांटा मास्क-